देश की आन-बान, शान– भिण्ड: मुरैना

देश की आन-बान, शान– भिण्ड: मुरैना

पूर्णतः बाग रहित क्षेत्र,
किन्तु बागियों से भरा यह
स्थान देश-दुनिया भर में बहुत प्रसिध्द है  ।
यहां बाग कम, बागी ज्यादा पाए जाते हैं  ।
सदियों से डकैत और बागी
भिंड-मुरैना की पहचान है ।
 
भिण्ड जिले का हर आदमी
  भिड़ने-लड़ने  पर विश्वास करता है ।
 कभी-कभी, तो
  "आ बैल मोये मार" 
 
  वाली कहावत पूरी तरह चरितार्थ होती है ।
सम्पूर्ण सृष्टि में यह अपने तरह एक
अद्भुत क्षेत्र  है ।
 
  फिर मुरैना ? तो बस फिर मुरैना  है  ।
  राष्ट्रीय पक्षी मोरों की भरमार से  भरपूर
  बागियों, डकैतों और लठैतों
 इस भूमिमें किसी को भी मुड़ना,
झुकना नहीं आता,
  तभी, तो कहते हैं - मुरे- ना 
अर्थात जो कभी "मुड़े- ना
  झुके- ना
  यहाँ के आदमी ने एक बार जो ठान लिया, फिर मुड़ने, झुकने का कोई काम ही नहीं है ।
  यह ठाकुर बाहुल क्षेत्र है , जिनकी कभी
  "ठाकुरजी" (भगवान)  की तरह सम्मान
  होता था । कहीँ-कहीं गहन ग्रामीण
  क्षेत्रों में आज भी यही  परम्परा  है  ।
  बात वाली बात पर यहां के ठाकुर
  बड़े से बड़े साम्राज्य को ठोकर मारते आएं ।
  मान-सम्मान, स्वाभिमान  इनके लिए
   मूल पूंजी है ।
   दाब-पुण्य, दयालुता में इनका कोई मुकाबला
   नही है । लेकिन बहुत छोटी बात पर बड़ा
   विवाद हो जाता है   ।  कहो, तो हाथी निकल जाए और पुच्छ पर झगड़ा हो जाये, फिर
   कब कितने मान्स (लोग) मरेंगे-मारेंगे
   ईश्वर को भी नहीं मालूम ।
   डोंगर-बटरी,पुतलीबाई, 
मानसिंह, पानसिंघ, 
निर्भयसिंह, फूलनदेवी,
तथा मलखान सिंह जैसे बागी बहुत उदार, दयावान, तो कभी इतने
खूँखार हुए, की पृथ्वी काँप गई ।
 
 हर्बल्स दवाओं
की मार्केटिंग के सिलसिले
   में लगभग 25-,30 वर्षों तक हर महीने
   प्रवास के दौरान इस क्षेत्र के सभी
   छोटे-बड़े   तथा घने वन-जंगल मे स्थित
   ग्रामीण-क्षेत्रों व गांव का दौरा- प्रवास किया ।
   लेखन का शौक होने के कारण यहां की
   परम्पराओं, जीवन शैली,  का उन्हीं की भाषा मे संकलन  भी करता रहा ।
    भिण्ड-मुरैना  तथा और भी अनेक जानकारियों को प्रकाशित करने  तथा अपना शौक पूरा करने व उमड़ रहे ज्ञान को परोसने  हेतु, सन 2006 में
 
    "भारतीय प्रेस परिषद"
 
    अंग्रेजी  में बताएं, तो
    Press Council of India
    एवम
    जनसम्पर्क संचालनालय
 
    मध्यप्रदेश शासन द्वारा-
 
    अमृतम मासिक पत्रिका
 
    प्रधान संपादक- अशोक गुप्ता
     के रूप में कानूनी मान्यता प्राप्त की ।
 
     जिसका निरन्तर प्रकाशन सन
     2006 से प्रारंभ कर दिसम्बर
     2015 तक होता रहा ।
     अमृतम मासिक पत्रिका
 हर माह करीब  50000 (पचास हजार ) पत्रिकाएं  प्रकाशित होती थी, जिन्हें पूरे भारत
     के सभी चिकित्सकों  (Doctors),
     वैधों तथा मेडिकल स्टोर्स को मुफ्त
     भेजी जाती थी ।
 
     फिर कुछ कठिनाइयों के कारण
     पत्रिका का व्यय (खर्चा)
     निकालना मुश्किल हो गया ।
 
     तब कहीं जाकर  इसका
     प्रकाशन स्थगित, बन्द  करना पड़ा ।
     फिलहाल अब,  अमृतम ने अपनी
 स्वयं की वेबसाइट बनवाकर
     ऑनलाइन  मार्केटिंग
     चालू की है । इसमे प्रतिदिन नित्य-नई
     जानकारी, नवीन लेख,  ब्लॉग के रूप में
     दिये जा रहें हैं ।  अपने जीवन के विगत
     35 वर्षों में प्रवास द्वारा  जो भी अनुभव, ज्ञान एकत्रित कर संकलन किया,
     वह सब पुनः  हमारी वेबसाइट
     amrutam.co.in

      पर बहुत ही सरलता से उपलब्ध है ।

 
     लगातार 25-30 सालों घूमने से
     भिण्ड- मुरैना के कल्चर को समझकर
    इनके  बारे में लोगों के
    भाव-स्वभाव को परखा, जाना
   भिण्ड- मुरैना की ठेठ व सीधी- टेडी खड़ी बोलचाल, मेरे मन को सदा लुभाती रही,
   बात-बात पर मुहावरों-कहावतों का चलन,
इनका रहन-सहन , यहाँ के खान-पान आदि
सगे -संबंधियों का मान-अपमान बहुत ही कुछ
नजदीक से देखकर लगभग
 500  (पांच सौ)  पेजों का रजिस्टरों में संकलन कर बीच-बीच मे  कुछ लेख अमृतम पत्रिका में प्रकाशित भी किये   ।
इस लेख का मुख्य विषय है, यहां की भाषा-बोलचाल में  गहन ग्रामीण, गांव के लोग
  अपने रोगों को किस तरह  बयान  हैं  ।
 
भिण्ड -मुरैना
के मरीज की बीमारी भिण्ड -मुरैना के डाक्टर के अलावा किसी और कि समझ में आ पाना कुछ उलझन भरा हो सकता है  ।
  कोई समझ ही नहीं सकता!
जैसे-
ग्रामीण क्षेत्रों में बीमारियों के नाम
मरीज डॉक्टर को इस प्रकार बताता है ।
डाकदर साहब,
@  मोये तो पूरे शरीर में 8 रोज से भौत पीरा
हे रही है, मैं तो अब मरत हों ।
@  कच्ची गृहस्थी हे, डाकधर साहब,
@  छाती में आंधी सी उठत है ।
@  हाथ-गोर फड़फड़ात  हैं ।
@  आंखें गड़ति है
@  पेट में आगि पत्ति है
@  मूड़ पिरात है
@ भुंसारे पीर होत है
@  पेट भड़भड़ात है
पेट 4-6 दिना से गुम सो हे,  गयो है
 
 
@   बैर-बेर डकार आउति है
 
@  कान में सन्नाटो सो खिंचो है  ।
 
@  पेट गुड़गुड़ात है
 
@  माथो भन्नात है !
 
@  झरना झर रहो है । (दस्त लगना)
 
@  कम दिसतो है ।
 
@  कबहूँ-कबहूँ ऐसो  मूड बन जात,
 के दो- चारन कों गोरी (गोली) माद दयूं ।
 
@  हाथ-गोड़  झुनझुनात है  ।
@  इस चटकत है  ।
@  पेट पिरात है  । आदि
 
        ऐसी-ऐसी बीमारियां सुनकर
अच्छे से अच्छे एमबीबीएस डाक्टर्स को भी अपनी पढ़ाई पर शक होने लगता है कि, कहीं ये चैप्टर छूट तो नहीं गया । नए दौर के चिकित्सक , तो पूरी तरह
हड़बड़ा जायेंगे ।
भिण्ड-मुरैना
के विषय मे विस्तार से समझने,
जानने के लिए  एक बार लॉगिन  कर ही लीजिए । आपको ऐसी अद्भुत और दुर्लभ
रहस्यमयी जानकारी मिलेगी क़ि  इस ज्ञान से तृप्त हो जाएंगे ।
 
        अमृतम की हर्बल्स दवाएँ उपरोक्त
        रोगों में बहुत शीघ्र ही लाभ दायक हैं ।
        हमारी वेबसाइट पर जाएं और पाएं
        ज्ञान का अनसुना खजाना  |
        amrutam.co.in

RELATED ARTICLES

ब्रेन की गोल्ड माल्ट के 19 चमत्कारी लाभ | 19 Magical Gains of Brainkey Gold Malt
ब्रेन की गोल्ड माल्ट के 19 चमत्कारी लाभ | 19 Magical Gains of Brainkey Gold Malt
How to wash your Hair: The Amrutam Way of doing it
How to wash your Hair: The Amrutam Way of doing it
How to have a Healthy Liver?
How to have a Healthy Liver?
How Ayurveda can help improve digestion in body?
How Ayurveda can help improve digestion in body?
अब कम उम्र वाली महिलाएं भी हो रही हैं, संतान सुख से वंचित।  क्या हैं कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार?
अब कम उम्र वाली महिलाएं भी हो रही हैं, संतान सुख से वंचित। क्या हैं कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार?
आंखों के लिए एक चमत्कारी माल्ट और नेत्र रोग नाशक दुर्लभ वैदिक मंत्र, जो 25 प्रकार के नेत्रदोष दूर करता है।
आंखों के लिए एक चमत्कारी माल्ट और नेत्र रोग नाशक दुर्लभ वैदिक मंत्र, जो 25 प्रकार के नेत्रदोष दूर करता है।
दांतों की सड़न (पायरिया रोग), हिलना, टूटना, जड़े कमजोर होना आदि दंत विकारों का आयुर्वेद में चमत्कारी चिकित्सा है।
दांतों की सड़न (पायरिया रोग), हिलना, टूटना, जड़े कमजोर होना आदि दंत विकारों का आयुर्वेद में चमत्कारी चिकित्सा है।
सिर में दर्द रहता है। क्या आप डिप्रेशन, डिमेंशिया, दिमागी परेशानी से भयभीत हैं, तो इस अध्यात्मिक ब्लॉग को पढ़िए!
सिर में दर्द रहता है। क्या आप डिप्रेशन, डिमेंशिया, दिमागी परेशानी से भयभीत हैं, तो इस अध्यात्मिक ब्लॉग को पढ़िए!

Learn all about Ayurvedic Lifestyle