अमृतम महिला दिवस | Amrutam Women’s day

अमृतम महिला दिवस | Amrutam Women’s day

आज महिला दिवस है । शिव पुराण में इन्हें  प्रकृति स्वरूप माना है । स्त्री और प्रकृति
‎दोनों के स्वभाव में काफी समानता है ।
*क्षणे रुष्ठा- क्षणे तुष्ठा*
दोनों जब प्रसन्न
‎होती है, मन मदमस्त कर देती हैं ।
‎*रूठी तो फिर किस्मत फूटी*
‎प्रातः प्रकृति परमानंद प्रदायक है ।
‎ठंडी-ठंडी शीतल हवा,दवा का काम करती
‎है , तभी तो सुबह हर प्राणी सिर नवा के
‎प्रकृति को प्रणाम करता है । शरीर को सवा
‎(स्वस्थ) करने मन्द-मन्द वायु आयु
‎वृद्धि कारक है । प्रकृति और स्त्री का
‎भाव-स्वभाव कब बदल जाये, सर्दी-गर्मी,
‎बरसात अर्थात अपनापन, क्रोध, अश्रुधारा
‎कब कैसे होने लगे, परमात्मा को भी नहीं
‎पता ।
प्रकृति या स्त्री ‎दोनों ही अन्नपूर्णा हैं, तनरक्षक साक्षात दुर्गा ‎है । काल-महाकाल को वश में करने वाली ‎काली-महाकाली भी यही हैं । जो *शिव* को शव बनने विवश कर दे । *न कोई शिकवा,
न गिला, पर विषधर (क्रोधित) होने पर जो सृष्टि का एक-एक जिला, किला,शिला हिला दे उसका
नाम महिला है । फिर क्या गया-क्या मिला
इसकी फ़िक्र नहीं करती ।*
दोनो समर्पण की मूर्ति हैं जिसके करतल पर
जल, कल-कल कर बह रहा है ।पवन प्रतिक्षण
नमन करता है । आकाश प्रकाश देने को मजबूर
है । आग इनका आधा भाग है । शेषनाग
स्वयं जिसे धारण किये है । ये पंचतत्व
पृथ्वी-प्रकृति और स्त्री की प्रतिदिन, प्रतिपल
पल-पल परिक्रमा करने आतुर है ।शिव भी इनकी सुंदरता पर मुग्ध है, यही सत्य है ।
सुंदरता में सत्य का वास है और सत्य
ही अंत में शिव है । शिव में छोटी इ हटाते
ही शव हो जाता है ।
*संसार का हर पुरुष को शव से शिव बनाने की क्षमता मात्र महिला में ही है*
बिना महिला कोई हिला मतलब अपनी
‎मनमर्जी से चला कि हिल स्टेशन मिला ।
व्यक्ति साधु बना । घाटी, पहाड़ों, गुफा,  कंदराओं
एकांत घने वन में,रहने वाले अनेकों  साधक
गृहकलेश के कारण साधु बन जाते हैं तो कुछ ईश्वर की इच्छा से। जिनमे कई ब्रह्मचारी भी हैँ ।
वैसे साधु सभी हैं । संसार को साधना या शिव
को बात बराबर है ।
कुछ किस्मत की मारी या जिम्मेदारी से मुक्त होकर हमारी तुम्हारी की खुमारी छोड़कर
महिलाएं भी साधना पथ पाकर जीवन जीती हैं ।
स्त्री शक्ति है, शक्त (क्रूर)होते ही रक्त बहने में समय नहीं लगता । सम्पूर्ण सत्ता का सेकंडों
में सर्वनाश कर सकती है  । संस्कार, संस्कृति समाज और सबको बड़ी शालीनता पूर्वक
समर्पण भाव से संभालकर सब समस्या का
समाधान कर सकती है । सभी तरह के सच का सामना करते हुए अपना और अपने परिवार का
सम्मान बनाये रखती हैं । संसार को संस्कार,
शक्ति सामर्थ्य प्रदान करने वाली सशक्त शक्ति
का नाम ही स्त्री है ।स्त्री स्वयं में सात स्वरों का संगम है ।  *सा* से शुरु  *नि* से अंत यानि
संगीत के स्वर हो एवम विनम्रतामें इनका  कोई *सानि* नहीं है ।
सात सरोवर, समुद्र, नदी, वृक्ष,मठ-मंदिर
इन्हीं के कारण पूजनीय हैं । स्त्री धर्म की धारा है , आधारा भी ।
*सृष्टि में हिस्ट्री रचना में स्त्री कारण है । मूर्ख को मिस्त्री (ज्ञानी)बनाने की कला इनके पास है*
ये प्रेम की मूरत है । करुणा का सागर है । अपनेपन का अंबार है । समर्पण, सहजता, सरलता इनका सबसे बड़ा सहारा हैं । सारी सृष्टि में स्त्री ही ऐसी शक्ति है, जो सदा सत्य का साथ देकर संसार को सत्संग की और ले जाती है ।
सभी सन्त इसका अन्त आँकने हेतु उस अनन्त
( अखिलेश्वरी) के आगे ध्यान मग्न है । उसके
प्रसन्न होने से ही सब संपन्न हो सकते हैं । कुछ भी उत्पन्न इसके बिना असम्भव है ।
ये संतति औऱ संपत्ति की दाता है, तभी तो  माता, जय माता दी, माँ कहकर इसे नमन करते हैं । स्त्री बहन बनकर जहन (बुद्धि) को पवित्र
करती है । बेटी तो फिर बेटी है । बेटी है तो कल है । भविष्य की नारी हेतु यह नारा बहुत चलन में है ।
*पत्नी- जो सदा रहे तनी ।* इन्हें श्रीमती के नाम
से संबोधित किया जाता है । ज्ञान-विवेक, लक्ष्मी,संपत्ति श्री के कई अर्थ हैं । बुद्धि को भी
मति कहते हैं । भ्रष्ट मति, अति करने वाले पति
हो या जगतपति के लिए महाकाली बन जाती
है ।
मनुष्य को संसार से बांधने उसकी पत्नी ही है ।
कुंआरियाँ पति के अतिरिक्त कुछ और नहीं
चाहती । पर जब उन्हें पति प्राप्त हो जाते हैं,
तो वे सब कुछ चाहने लगती हैं । क्योंकि
अपनी लताड़ से बुरी लत छुड़ा, सही पथ
पर लाकर छत (घर) बनाने की प्रेरणा देती है ।
पुरुष इसलिये विवाह करतें हैं कि वे थक जाते हैं,
पर स्त्री इसलिये की वे उत्सुक होती हैं । फिर
दोनों ही निराश या बोर होते हैं ।
हालांकि शादी का उल्टा दिशा होता है ।
विवाह उपरांत दशा और दिशा बदल जाती है ।
वह ज्योतिष की, ग्रहों की महादशा-अन्तर्दशा
समझने लगता है ।
अतः महिलाओं को सुंदर, स्वस्थ्य औऱ खूबसूरत
बनाये रखने हेतु अमृतम द्वारा निर्मित
अद्भुत असरकारक ओषधि है
*नारी सौंदर्य माल्ट*
इसे 1-1 चम्मच सुबह शाम दूध के साथ निरन्तर
लेने से अनेक अज्ञात रोग, रग-रग से निकल जाते हैं । बिना दर्द के मासिक धर्म समय पर लाना
सुनिश्चित करता है । सफेद पानी की शिकायत
जवानी खत्म कर देती है । इस तरह की
तमाम स्त्री विकार नारी सौंदर्य माल्ट के
लगातार खाने से नष्ट हो जाते हैं । पेट साफ रखना इसका मुख्य गुणधर्म है । चेहरे की चमक
मात्र 7 दिन के सेवन बढ़ जाती है ।
विस्तृत जानकारी के लिये
amrutam.co.in
*अमृतम मासिक पत्रिका से साभार*

RELATED ARTICLES

ब्रेन की गोल्ड माल्ट के 19 चमत्कारी लाभ | 19 Magical Gains of Brainkey Gold Malt
ब्रेन की गोल्ड माल्ट के 19 चमत्कारी लाभ | 19 Magical Gains of Brainkey Gold Malt
How to wash your Hair: The Amrutam Way of doing it
How to wash your Hair: The Amrutam Way of doing it
How to have a Healthy Liver?
How to have a Healthy Liver?
How Ayurveda can help improve digestion in body?
How Ayurveda can help improve digestion in body?
अब कम उम्र वाली महिलाएं भी हो रही हैं, संतान सुख से वंचित।  क्या हैं कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार?
अब कम उम्र वाली महिलाएं भी हो रही हैं, संतान सुख से वंचित। क्या हैं कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार?
आंखों के लिए एक चमत्कारी माल्ट और नेत्र रोग नाशक दुर्लभ वैदिक मंत्र, जो 25 प्रकार के नेत्रदोष दूर करता है।
आंखों के लिए एक चमत्कारी माल्ट और नेत्र रोग नाशक दुर्लभ वैदिक मंत्र, जो 25 प्रकार के नेत्रदोष दूर करता है।
दांतों की सड़न (पायरिया रोग), हिलना, टूटना, जड़े कमजोर होना आदि दंत विकारों का आयुर्वेद में चमत्कारी चिकित्सा है।
दांतों की सड़न (पायरिया रोग), हिलना, टूटना, जड़े कमजोर होना आदि दंत विकारों का आयुर्वेद में चमत्कारी चिकित्सा है।
सिर में दर्द रहता है। क्या आप डिप्रेशन, डिमेंशिया, दिमागी परेशानी से भयभीत हैं, तो इस अध्यात्मिक ब्लॉग को पढ़िए!
सिर में दर्द रहता है। क्या आप डिप्रेशन, डिमेंशिया, दिमागी परेशानी से भयभीत हैं, तो इस अध्यात्मिक ब्लॉग को पढ़िए!

Learn all about Ayurvedic Lifestyle