बी फेराल गोल्ड कैप्सूल शुद्ध शिलाजीत से बना हुआ आयुर्वेदिक उत्पाद है!

बी फेराल गोल्ड कैप्सूल शुद्ध शिलाजीत से बना हुआ आयुर्वेदिक उत्पाद है!

बी फेराल गोल्ड कैप्सूल शुद्ध शिलाजीत से बना हुआ आयुर्वेदिक उत्पाद है!

शिलाजीत परिचय आयुर्वेद शास्त्रमत के हिसाब से-संहिताकाल से ही शिलाजीत या शिलाजतु का अत्यन्त उपयोग रोगहरणार्थ होता आ रहा है।

बी फेराल गोल्ड केप्सूल शुद्ध शिलाजीत खरल कर निर्मित किया जाता है।

  • शिलाजीत 4 व 6 तरह का होता है….चरकसंहिता में ४ प्रकार का शिलाजीत कहा गया है—

  • १.स्वर्णगर्भ पर्वत के स्राव से उत्पन्न शिलाजीत,

  • २. रजतगर्भ पर्वत के स्राव से उत्पन्न शिलाजीत,

  • ३. ताम्रगर्भ पर्वत के स्रावजन्य शिलाजीत तथा ४. लोहगर्भ पर्वत के स्रावजन्य शिलाजीत। (Black Bitumen) शिलाजतु

  • किन्तु सुश्रुतसंहिताकार ने छ: प्रकार कहा है-५. नागगर्भ पर्वत के स्रावजन्य शिलाजीत, ६. वङ्गगर्भ पर्वत के स्रावजन्य शिलाजीत ।

  • इनमें लोहपर्वतोत्पन्न शिलाजीत को दोनों ने श्रेष्ठ माना है। शिलाजीत की उत्पत्ति

हेमाद्याः सूर्यसन्तप्ताः स्रवन्ति गिरिधातवः।

जत्वाभं मृदु मृत्स्नाच्छं यन्मलं तच्छिलाजतु!!

॥५२॥(चरक-चि. १३)

  • अर्थात- ग्रीष्म ऋतु में प्रचण्ड सूर्य-किरणों से प्रतप्त हेमाद्य धातुओं वाला पर्वत जतु (लाक्षा) की तरह एक प्रकार का स्राव त्यागता है जो स्वच्छ मिट्टी जैसा मल है, उसे ही शिलाजतु कहते हैं।

  • शिलाजतु की श्रेष्ठता

गोमूत्रगन्धयः सर्वे सर्वकर्मसु यौगिकाः!

रसायनप्रयोगेषु पश्चिमस्तु विशिष्यते॥५३(चरक)

  • इन सभी ४ प्रकार के शिलाजतुओं में अन्तिम लोह पर्वतजन्य स्राव वाला शिलाजतु श्रेष्ठ है और सभी कर्मों (रोगनाशनार्थ एवं रसायनार्थ) में उपयोगी है, रसायनकर्मोपयोगी है। यह गोमूत्रगन्धि है।

  • किन्तु रसशास्त्र के काल में शिलाजतु का मात्र दो ही भेद रह गया था। वह था—१. गोमूत्रगन्धि : सत्त्वयुक्त तथा २. कर्पूरगन्धि : सत्त्वरहित यथा

‘शिलाजतु द्विधा प्रोक्तो गोमूत्राद्यो रसायनः!

कर्पूरपूर्वकश्चान्यस्तत्राद्यो द्विविधः पुनः!!

ससत्त्वश्चैव नि:सत्त्वस्तयोः पूर्वो गुणाधिकः’ ।

कर्पूरशब्दोऽत्र मनोहरवाचकः इति श्रीहजारीलालः. (र.र.स प्रमुख पर्याय-अतिथि, अद्रिजतु, अश्मसार, गिरिज, गिरिजतु, जतु, शिलाजतु, शिलाधातु, शैल, शैलेय तथा शैलोद्भव।

RELATED ARTICLES

Learn all about Ayurvedic Lifestyle