मर्दाना शक्ति और घोड़े जैसी स्टेमिना बढ़ाने के लिए स्थाई उपाय क्या है?

  • अखंड परिवार हेतु पार्टनर की प्रसन्नता पर पहले ध्यान देंवें …
    • तन को पतन से बचाने के लिए हजारों जतन करना चाहिए। पुरुषों की स्टेमिना यानि ताकत अनमोल रत्न है।आयुर्वेद का मूलमंत्र है-
    • !!पहला सुख-निरोगी काया!!
    वैवाहिक जीवन तभी सफल और सुखमय माना जाता है, जब आप परिवार के साथ-साथ पार्टनर को भी शारीरिक सन्तुष्टि देकर प्रसन्न रखेंगे।
    • आपके शरीर में पुरुषार्थ या स्टैमिना, ताकत, शक्ति एवं की कमी है अथवा कोई भी शारीरिक कमजोरी है, तो सौ फीसदी आयुर्वेदिक इलाज के लिए 3 से 6 महिने तक नियमित बी फेराल गोल्ड माल्ट एवं कैप्सूल का सेवन शादीशुदा जीवन को पूरी तरह खुशहाल बना सकता है।
    बी फेराल रोगप्रतिरोधक क्षमता यानि immunity बढ़ाने में सहायक है। आयुर्वेद की गौरवशाली और विलक्षण असरदार ओषधियों से निर्मित एक बहुत ही बेहतरीन दवा है। यह पुरुषों के अनेक गुप्त विकारों को दूर करने में 100 फीसदी सहायक है।
  • जाने स्टेमिना का मतलब और आयुर्वेद की 5000 साल पुरानी परम्पराओं के अनुसार घोड़े जैसी ताकत बढ़ाने के बेहतरीन उपाए…
  • स्टेमिना क्या है?…
    • शक्ति, ऊर्जा, एनर्जी, ताकत ये सब स्टैमिना से जुड़े शब्द हैं। शारीरिक और मानसिक दोनों स्तर पर किसी कार्य को करने के लिए उपयोग क्षमता को स्टैमिना कहा जाता है।
    • स्टैमिना व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक स्तर की वह क्षमता है जिसके द्वारा किसी भी कार्य को लंबे समय तक मन लगाकर पूरे मनोयोग से किया जा सकता है।
    • स्टेमिना से मतलब शारीरिक शक्ति या मजबूती से है, जो मनुष्य में कर्म (WORK) और काम (SEX) करने के लिए शक्ति प्रदान करता है!
    • स्टैमिना से भरे आदमी में थोड़े- थोड़े समय में थकान या सांस भरने की परेशानी नहीं होती।

स्टेमिना में कमी के संकेत और 12 लक्षण….

  1. किसी भी काम में एकाग्रता से मन न लगना।
  2. बार-बार ब्रेक की जरूरत महसूस करना।
  3. जरा सा चलने-फिरने, दौड़ने या श्रम करने में हाफनी भर जाना।
  4. सीढ़ियां चढ़ते समय थकान होना।
  5. बेचैनी, चक्कर आना। नींद कम आना।
  6. आलस्य बने रहना, उर्जारहित होना।
  7. भूख-प्यास, सेक्स उमंग से अरुचि होना।
  8. परिश्रम बिना पसीना आना।
  9. सदैव स्वयं को थका हुआ अनुभव करना।
  10. आंखों के सामने धुंधलापन छा जाना।
  11. रक्तचाप या ब्लडप्रेशर स्थिर न रहना।
  12. हाथों और पैरों में दर्द महसूस होना।
  • स्टेमिना बढ़ाने के लिए आप आयुर्वेद की कुछ विशेष औषधियों को अपना सकते हैं…
  • आयुर्वेद में घोड़ा यानि अश्व के नाम से एक जड़ीबूटी है, उसका नाम है अश्वगन्धा। इसमें घोड़े जैसी गन्ध आती है।
  • अश्वगन्धा प्राचीन काल से शारीरिक, मानसिक स्टैमिना बढ़ाने में जबरदस्त कारगर ओषधि है। इसके सेवन से व्यक्ति में अश्व शक्ति का संचार होने लगता है।
  • अश्ववाचक जितने नाम हैं, उनको आदि में रखकर गन्ध शब्द अंत में लगाने पर जितने भी शब्द हो, वे सब अश्गन्ध वाचक होते हैं।

आयुर्वेद की ताकतवर, बाजीकरण, स्टेमिना तथा सेक्सुअल पावर बढ़ाने वाली दवाओं में अश्वगन्धा का विशेष विधि से मिश्रण किया जाता है। इसे बलदा, बाजीगन्धा, वाराहकर्णी आदि घोड़े के जितने नाम हैं, उतने ही अश्वगन्धा के नाम निघण्टु में वर्णित है।

अश्वगन्धा को विथेनिया सामनिफेरा, ‘इंडियन जिनसेंग’ या विंटर चेरी भी कहा जाता है।

स्टैमिना बढ़ाने में जबरदस्त कारगर है- अश्वगन्धा…

अश्वगंधा के अनेक फायदे हैं। कमजोरी, हीनता, नपुंसकता, शीघ्रपतन, शुक्राणु अर्थात वीर्य की कमी या न कम बनने में इसे मिश्री के साथ मिलाकर खिलाते हैं। इसका प्रयोग कई प्रकार के रोगों के उपचार में किया जाता है। अश्वगंधा का सेवन मुख्यत इसके चूर्ण के रूप में किया जाता है।

प्राचीनकाल से इसका उपयोग कई गंभीर बीमारियों के लिए किया जाता रहा है। आयुर्वेदाचार्यों के अनुसार अमृतम अश्वगंधा चूर्ण से कई शारीरिक समस्या दूर हो जाती हैं। इसके सेवन से वीर्य गाढ़ा होता है। अश्वगंधा युक्त दवाएं वैवाहिक पुरुषों के लिए रामबाण है।

सेक्सुअल कमजोरी की वजह जल्दबाजी….

  • ज्यादातर पुरुष तुरन्त स्टेमिना, सेक्स शक्ति बढ़ाने हेतु आयुर्वेदिक योगों को छोड़कर अनेकों अंग्रेजी दवाओं का सेवन करने लगते है, जिसके कारण शरीर पर बहुत बुरा असर पड़ने लगता है क्योकि ये सभी दवाऐं आगे चल कर वीर्य सूखा कर बहुत कमजोर बना देती है, जिससे लिंग की कठोरता कम होकर पेनिस शिथिल हो जाता है।
    • बी फेराल माल्ट & कैप्सूल
    • अश्वगन्धा, शतावर, स्मृतिसागर रस, कौंच बीज, वंग भस्म, स्वर्ण मकरध्वज, सफेद मूसली कादि से निर्मित दवा स्टेमिना, ताकत, शक्ति तेजी से बढ़ाती है। इसे हमेशा लिया जा सकता है।
  • अश्वगंधा प्राचीन काल से आयुर्वेद में उपचार होने वाली एक कारगर औषधि है। सतयुग से इसका उपयोग कई गंभीर बीमारियों के लिए किया जाता रहा है।
  • आयुर्वेदाचार्यों के अनुसार अश्वगंधा चूर्ण से कई शारीरिक तथा मर्दाना ताकत सम्बंधित समस्या दूर हो जाती हैं। इसके सेवन से वीर्य गाढ़ा होता है। अश्वगंधा उन वैवाहिक पुरुषों के लिए रामबाण है, जो सेक्स का भरपूर लुफ्त उठाना चाहते हैं।

अश्वगंधा भारत की बेहतरीन खोज है। यह चमत्कारी हर्ब है। इसे आयुर्वेद में अहम् सम्मान प्राप्त है। क्योंकि अश्वगंधा प्राकृतिक इम्युनिटी बूस्टर है।

आयुर्वेद विशेषज्ञों का मानना है कि अश्वगंधा का इस्तेमाल कई शारीरिक समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। यह बहुत सी गुप्त रोगों एवं दैहिक, दैविक बीमारियों के लिए अचूक है।

 बी फेराल गोल्ड माल्ट/कैप्सूल  के २७ फायदे –

【१】 यह प्राकृतिक उम्ररोधी अर्थात एंटीएजिंग बूटी है। बुढापा नहीं आने देता।

【2】बी फेराल गोल्ड माल्ट/कैप्सूल के नियमित सेवन से झुर्रियां, कम्पन्नता मिट जाती हैं।

【३】अनिद्रा की शिकायत को दूर करता है।

【४】बी फेराल गोल्ड कैप्सूल में आयुर्वेद में मधुमेह नाशक दवाओं का मिश्रण है। यह डायबिटीज़,ब्लड शुगर को सन्तुलित करता है।

【६】पुरुषों में मसल्स मास को बढ़ाकर, बॉडी फैट्स कम करता है और शक्ति देता है।

【७】बी फेराल गोल्ड माल्ट शरीर की जलन, बेचैनी और सूजन में राहतकारी है।

【८】इसमें मिला शतावर, अश्वगंधा जोड़ों के दर्द और कमरदर्द के लिए फ़ायदेमंद है।

【९】रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में उपयोगी।

【१०】शारीरिक दुर्बलता को कम करता है।

【११】यौन क्षमता बढ़ाने में कारगर है।

【१२】बी फेराल गोल्ड माल्ट/कैप्सूल शुक्राणुओं की गुणवत्ता तेजी से बढ़ाकर वीर्य को गाढ़ा करता है।

【१३】दैहिक असन्तुष्टि से पनपे वैवाहिक जीवन के तनाव को खत्म करने में सहायक है।

【१४】नींद ना आने की समस्या में राहतकारी है।

【१५】वातविकार, सुस्ती आलस्य एवं गठिया जैसी समस्याओं को उपजने नहीं देता।

【१६】खून व वीर्य की वृद्धि करता है।

【१७】शारीरिक थकावट मिटाता है।

【१८】लिंग की नाड़ियों, मांसपेशियों को बढ़ाने में कारगर है।

【१९】बी फेराल जवानी बरकरार रखता है।

【२०】तनाव, चिंता, थकावट, नींद की कमी जैसी समस्यों का कारगर इलाज है।

【२२】गंभीर अवसादग्रस्त यानि डिप्रेशन से पीड़ित का इलाज भी इससे संभव है।

【२३】हरीतकी मुरब्बा एवं आँवला मुरब्बा में  एंटीइंफ्लामेट्री गुणों की वजह से ये कोलेस्ट्रॉल और ट्राईग्लिसराइड लेवल को कम करता है।

【२४】अत्याधिक सेक्स करने के बाद भी बी फेराल का उपयोग ह्रदय, यकृत को स्वस्थ रखता है.

【२६】एक शोध के अनुसार अश्‍वगंधा कैंसर के कारण होने वाली कीमोथेरेपी के दुष्प्रभाव को कम करने में सहायक है। इसीलिए इसे बी फेराल में मिलाया गया है

【२७】बी फेराल कैप्सूल अश्वगंधा युक्त होने के कारण नई कैंसर सेल्स को बनने से भी रोकता है।

बुद्धि की शुद्धि के लिए असरकारी-

अश्वगंधा को दिमाग के लिए फायदेमंद कहा जाता है।मनुष्य के शरीर की बहुत सारी परेशानियों को दूर करने के लिए अश्वगंधा एक चमत्कारी औषधि के रुप में इसकी जड़ का उपयोग किया जाता है।

यह शरीर को बीमारियों से बचाने के अलावा दिमाग और मन को भी स्वस्थ रखती है। पुरुषत्व बढ़ाने में भी एक 3 से 5 ग्राम अमृतम अश्वगंधा चूर्ण बी फेराल गोल्ड माल्ट के साथ मिलाकर गुनगुने दूध से 3/तीन महीने लेने से व्यक्ति सेक्स के माले में फौलादी बन जाता है।

केवल पुरुषों के लिए उपयोगी

RELATED ARTICLES

Talk to an Ayurvedic Expert!

Imbalances are unique to each person and require customised treatment plans to curb the issue from the root cause fully. We recommend consulting our Ayurveda Doctors at Amrutam.Global who take a collaborative approach to work on your health and wellness with specialised treatment options. Book your consultation at amrutam.global today.

Learn all about Ayurvedic Lifestyle